Posts

Showing posts from February, 2016

Union Budget 2016-17 India | Transforming Tomorrow | Dedicates to The Poor and Develop the backBone of India

Here R Union #Buget2016 Highlights,
By- Shubham Kamal
Source- GovOfIndia
i had done work hard to write this,plz remark it.....



 Growth of Economy accelerated to 7.6% in 2015-16.  India hailed as a ‘bright spot’ amidst a slowing global economy by IMF.  Robust growth achieved despite very unfavourable global conditions
and two consecutive years shortfall in monsoon by 13%
 Foreign exchange reserves touched highest ever level of about 350
billion US dollars.  Despite increased devolution to States by 55% as a result of the 14th
Finance Commission award, plan expenditure increased at RE stage in
2015-16 – in contrast to earlier years.
CHALLENGES IN 2016-17
 Risks of further global slowdown and turbulence.  Additional fiscal burden due to 7th Central Pay Commission
recommendations and OROP.
ROADMAP & PRIORITIES
 'Transform India' to have a significant impact on economy and lives of
people.  Government to focus on –
• ensuring macro-economic stability and prudent fisca…

सियाचिन:लड़ाई कुदरत से

सियाचिन एक ऐसी जगह जहाँ जंग होती है कुदरत और फौलादी इरादों के बीच , लेकिन इस जंग में बाजी दोनों तरफ से जबरजस्त लगती कभी कुदरत अपना कहर बरपता है तो कभी इंसान कुदरत को मात देकर भारत माता का सर गर्व से ऊँचा करते है वैसे ऐसा मन जाता है कुदरत के कहर के आंगे किसी कि नहीं चलती पर जो कुदरत से लड़ने को तैयार रहतें है ऐसी फौलादी इरादे केवल भारत माता के वीर सपूत होते है|

दर्हसल मसला कुछ यूँ है -
सियाचीन ,जम्मू -कश्मीर में लद्धाख इलाके में बसा एक कुदरत का करिश्मा ठंडा ग्लेसिअल है जिसके सटे भारत,चीन और पाकिस्तान के बॉर्डर लगते है तापमान इतना है की सुनकर रूह काँप जाएँ |

-५० डिग्री से कम तापमान में फौलादी इरादे के साथ दुश्मन को उसी इलाके में ढेर करने की छमता के साथ भारत के जवान दते रहतें है ,करीब १ साल में ३६ फिट बर्फवारी से जीवन अस्त व्यस्त हो जाये पर उनको कोई फर्क नही पड़ता भारत के बॉर्डर के सुरकचा के लिए वे किसी भी हद तक जाने के लिए हमेसा तैयार है ....

भले ही वंहा करीब १० साल से गोलाबारी नही हुई हो पर घुसपैठ का खतरा हमेसा बना रहता है कहना असान है की लेकिन करना नामुम्लिन पर इस नममुम्किन को मुम्किम …